रविवार, 14 नवंबर 2010

कविता :हमारी मांगे पूरी करो

हमारी मांगे पूरी करो

आओ मेरे साथ चलो ,
आपस में एक बात करो ....
नेता जी आये हैं दौरे में ,
चलो अपनी मागों को पूरी करें ....
मांग हमारी एक रहे सब भारतवासी ,
हो इस देश में कोई प्रवासी ....
नागरिकता से मिले सभी को काम ,
काम को पूरा मिले उनको दाम ....
पाकर दाम भर लें अपना पेट ,
जब नेता मिलेगें,तब फिर करेगें भेंट ....
एक हमारी विनम्र-प्रार्थना ,
सुन लो मेरे भाई ....
भाई-भाई तुम क्या करते हो ,
मेरी तो बज गई शहनाई .....


लेख़क :आशीष कुमार
कक्षा :8
अपना घर

4 टिप्‍पणियां:

अशोक बजाज ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुति .

अशोक बजाज ने कहा…

चि.आशीष ,
शुभ-आशीष ,आज ग्राम-चौपाल में हमने आपके इस पोस्ट को वेब-दुनिया के आलेख के साथ प्रकाशित किया है . आप लोग खूब मेहनत करके खूब तरक्की करो ईश्वर से यही कमाना है .
" सुन्दर ब्लोगिंग करते ईंट-भट्टों के मजदूर बच्चें : ब्लॉग बाल -सजग "

चैतन्य शर्मा ने कहा…

अच्छी बात कही.... सुंदर कविता

राहुल पंडित ने कहा…

अतिसुन्दर...