मंगलवार, 16 नवंबर 2010

कविता : रोबोट

रोबोट
रोबोट होते है बड़े दिमाग के ,
रोबोट होते हैं अमर....
ये मानव क्या जाने,
रोबोट कब मिलजुल जाये .....
मानव को बना ले अपना चेला,
मानव ने रोबोट को इतनी दे दी हैं शक्ति .....
रोबोट हो हैं गए शक्तिशाली,
रोबोट किसी से नहीं डरते हैं.....
रोबोट मोबाइल से जब बाते करते ,
मानव रोबोट को देखते रह जाते....
लेख़क : रामसिंह
कक्षा :
स्वामी विवेकान्द ,कानपुर

1 टिप्पणी:

चैतन्य शर्मा ने कहा…

अरे वाह रोबोट पर भी कविता... मजेदार