शुक्रवार, 22 नवंबर 2019

कविता : तोता राजा

" तोता राजा "

तोता राजा  तोता राजा,
तुम कितने ही प्यारे हो | 
तुम अपने ये पंख कहाँ से लाए हो,
तोता राजा तोता राजा 
छोटी सी चोंच कहाँ से लाए हो,
तुम कितने ही सरमते हो 
मीठा मीठा  गीत गाते हो |

कवि : शिवा कुमार , कक्षा : 3rd , अपना घर 

कवि परिचय : यह कविता शिवा के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के रहने वाले हैं | शिवा ने इस कविता का शीर्षक " तोता राजा " दिया है | शिवा एक पुलिस अफसर बनना चाहते हैं |  

गुरुवार, 21 नवंबर 2019

कविता : दोस्ती

" दोस्ती "

अरे यह दोस्ती है,
जिसको कभी नहीं भूल सकते | 
अरे यह दूसरों की ख़ुशी है,
हर चेहरे पर मुस्कराहट है | 
कभी नहीं भूल सकते,
बीता हुआ समय ,आने वाला समय को, 
कभी सोच नहीं सकते | 
जीवन में बाधाएं आती है,
पर हमें उनका सामना करना चाहिए | 
अरे यह दोस्ती है,
जिसको कभी नहीं भूल सकते | 

कवि : अमित कुमार , कक्षा : 5th , अपना घर 

कवि परिचय : यह कविता अमित के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के रहने वाले हैं | अमित को कवितायेँ लिखने का बहुत शौक  है और बहुत सी कवितायेँ लिख भी चुके हैं उनमें से यह भी एक कविता है जिसका शीर्षक " दोस्ती" है | अमित पढ़ाई में बहुत अच्छा हैं | हमें उम्मीद है की अमित और भी रोचक भरी कवितायेँ लिखेंगें | 

बुधवार, 20 नवंबर 2019

कविता : एक नेक इंसान बन

" एक नेक इंसान बनना है "

दुकान जाना है,
वहां से किताब ,कॉपी लाना है |
हमें दिमाग लगाना है,
भारत देश को स्वस्थ बनाना है |
चेहरों पर खुशियाँ लाना है,
दोस्तों से मिलने जाना है |
हमें पढ़ाई में दिमाग लगाना है,
पूरे में से पूरे नम्बर लाना है |
हमें स्कूल पढ़ने जाना है,
पढ़ाई में दिमाग लगाना है |
हमें पेपर देना है,
हमें अपनी प्रतिभा को पहचानना है |
हमें एक नेक इंसान बनना है,
महा पुरुषों की राह को अपनाना है |

कवि : नवलेश कुमार , कक्षा : 5th , अपना घर 

कवि परिचय : यह कविता नवलेश के द्वारा लिखी गई है जिसका शीर्षक " नेक इंसान बनना है " है | इस कविता के माध्यम से नवलेश एक नई जीवन की और जाने की शिक्षा दे रहा है की हमें एक नेक इंसान बनना है | नवलेश पढ़ाई में बहुत अच्छा है | 

मंगलवार, 19 नवंबर 2019

कविता : जिंदगी को अपने शरण देती हैं

" जिंदगी को अपने शरण देती हैं "

मैं  उस आसमाँ के बारे सोचता हूँ, 
जो इतने सरे जिंदगी को अपने शरण देती हैं | 
मैं उस बात को सोचता हूँ,
जो कुछ अजीब सा जिंदगी देते हैं | 
कभी - कभी मैं कुछ और सोचता हूँ,
जो हंसी  और उल्लास से भर देती है | 
एक मनुष्य इतने सारी गलतियाँ 
इस स्तिथि में रहना सीख लें | 

कवि : विक्रम कुमार ,  कक्षा : 9th , अपना घर 

कवि परिचय : यह कविता विक्रम के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के रहने वाले हैं | विक्रम को कवितायेँ लिखने  बहुत शौक है | विक्रम  ने इस कविता का शीर्षक " जिंदगी को अपने शरण देती हैं " दिया है | इस कविता के माध्यम से हमें बहुत ही शिक्षा मिलती है 

रविवार, 17 नवंबर 2019

कविता : बूँद

" बूँद "

देखो क्या क्या लाई बूँद,
पत्तों से फिर टपकती बूँद |
मोती जैसी चमकती बूँद,
जैसे कोई इंद्रधनुष | 
सीधे आकर जमीं पर,
गिरती थकी हुई सी लगती है | 
यही चाहते हैं हैं हम सारे
कल फिर से बरसों बून्द | 

कवि : सुल्तान कुमार , कक्षा : 5th , अपनाघर

कवि परिचय : यह कविता सुल्तान के द्वारा लिखी गई है  जो की बिहार के रहने वाले हैं  |  सुल्तान को कवितायेँ लिखना बहुत पसंद है | सुल्तान ने इस कविता का शीर्षक " बूँद " दिया है | सुल्तान पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं और और अच्छे बनने की कोशिश करते हैं | 

गुरुवार, 14 नवंबर 2019

कविता : भारत देश

" भारत देश "

भारत  देश है सबसे अच्छा,
हर एक बच्चा बोलता सच्चा |
जिन्होंने अंग्रेजों को मार भगाया,
वही भारत माँ का सच्चा बच्चा |
भगत सिंह ,राजगुरु को दे दिया फँसी,
तब भी बोल बाहें थे हम है भारतवासी |
जहाँ लोग बच्चों को मौका देते,
बच्चों को पढ़ाते और खिलाते |  
भारत  देश है सबसे अच्छा,
हर एक बच्चा बोलता सच्चा |

कवि : गोविंदा कुमार , कक्षा : 3rd , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता गोविंदा के द्वारा लिखी गई है जिसका शीर्षक " भारत देश " है | यह गोविंदा की पहली कविता है इन्होने इस कविता को लिखनेके लिए बहुत कोशिश की थी | गोविंदा एक बहुत ही होनहार छात्र है पढ़ाई के साथ - साथ खेल कूद में भी अच्छा है | 

बुधवार, 13 नवंबर 2019

कविता : पेड़ की इच्छा

" पेड़ की इच्छा "

एक छोटे से पौधे को,
जरा पानी देकर तो देखो | 
वे जन्नत जैसा महसूस करेंगें,
तेरे हर सफर में साथ देंगें | 
चाहे वह एक मुसाफिर की तरह हो,
वे अपने छाया में तुझे बैठाएंगे | 
तेरी हर कठिनाई को झेलेगा,
तेरे लिए एक नया संसार बनाएगा | 
जीवन को खुशियों से भर देगा,
तेरी जरूरतों को पूरा कर देगा | 
जरा पानी तो देकर देख, 
वह तेरे लिए क्या बन जाएगा | 

कवि : सार्थक कुमार , कक्षा : 9th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता सार्थक के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के रहने वाले हैं | सार्थक को कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है | यह कविता एक पेड़ की इच्छा के प्रति लिखी है | सार्थक पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं | सार्थक इस कविता के द्वारा एक सीख देना चाहता है | 

मंगलवार, 12 नवंबर 2019

कविता : पर्यावरण को स्वच्छ बनाना होगा

" पर्यावरण को स्वच्छ बनाना होगा "

दिल्ली में छाई धुंध,
हो रही है कठिनाइयाँ खूब | 
तापमान बढ़ता जा रहा है,
प्रदूषण का प्रकोप मंडरा रहा है | 
जनता हो रही है बेबस,
बच्चो को झेलना पड़ रहा है शोषण | 
अब सुधरा दिल्ली अगर,
तो बच जाएगा यह जगत | 
अब लोगों को करना है हड़ताल,
जब हो गया सब बर्बाद | 
देश हो रहा है बेकार,
न जाने कब सुधरेगा यह संसार | 
जल बचावके लिए लड़ना होगा,
नै पीढ़ी के लिए कुछ करना होगा | 
जगह जगह पेड़ लगाना होगा,
 पर्यावरण को स्वच्छ बनाना होगा | 

कवि : कुलदीप कुमार , कक्षा : 8th , अपना घर 

कवि परिचय : यह कविता कुलदीप के द्वारा लिखी गई है जो की छत्तीसगढ़ के रहने वे हैं | कुलदीप ने इस कविता का शीर्षक " पर्यावरण को स्वच्छ बनाना होगा " दिया है क्योंकि हर दिन पर्यावरण ख़राब ही होता जा रहा है लोग इसके लिए जागरूक नहीं है इसीलिए यह कविता उन लोगों के लिए है जिसमें दिल्ली एक उदहारण है | कुलदीप को कवितायेँ लिखना बहुत पसंद है | 

सोमवार, 11 नवंबर 2019

कविता : पानी

" पानी "

हाथ धोऊँगा पानी से,
मुन्ना कहता नानी से |
प्यासे को पानी पिलाना चाहिए,
पानी को स्वास्थ्य रखना चाहिए,
हम जाने कितना पानी है,
ये तो बहुत बड़ी कहानी है |
कहीं ओस है तो बर्फ है कहीं,
पानी ही क्या भाप नहीं | 
धरती पर जीवन लाया,
पानी सींचकर खेत लहराया | 

कवि : सुल्तान कुमार , कक्षा : 5th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता सुल्तान के द्वारा लिखी गई है जिसका शीर्षक " पानी " है | सुल्तान को कवितायेँ लिखने  का बहुत शौक है | यह कविता पानी की सुरक्षा क लिए है | सुल्तान को कवितायेँ लिखने का बाहत शौक है | 

रविवार, 10 नवंबर 2019

कविता : आज़ादी नहीं है

" आज़ादी नहीं है "

हम उदास  नहीं हैं,
हमें उदास कर दिया गया है |
हम हँसना चाहतें हैं ,
सबके सामने
पर हंसने नहीं दिया जाता है |
 नहीं देते हमें पूरी आज़ादी,
घूमने की और कहीं जाने की |
नहीं देते आज़ादी,
अपने इच्छा को प्रकट करने की |
मन तो विचल रहा है,
पर इसे यूँ ही रोक दिया जाता है |

कवि : राज कुमार , कक्षा : 10th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता राज के द्वारा लिखी गई है जिसका शीर्षक " आज़ादी नहीं है " है | राज ने यह कविता किसी सन्देश पर लिखी है की कैसे अपना समाज सभी को दबाता है आज़ादी नहीं देता है |

कविता : मत कर तू बुराई

" मत कर तू बुराई "

अब बहुत हो गया है भाई,
अब तू न कर मेरी बुराई |
क्योंकि करना है मुझे पढ़ाई,
अब नहीं करना है किसी से लड़ाई |
चाहे मुझे बिछानी पड़े चटाई,
फिर भी मैं करूँगा पढ़ाई |
मुझे लगता था कर नहीं पाउँगा,
उन उचाईयों को छू नहीं पाउँगा |
चाहे जो भी हो जाए करूँगा मैं पढ़ाई,
छू लूंगा मैं वो सभी उचाई |

कवि : समीर कुमार  ,  कक्षा : 9th , अपना घर 
कवि परिचय :   यह कविता समीर के द्वारा लिखी गई है जो की प्रयागराज के रहने वाले हैं |समीर ने इस कविता का शीर्षक " मत कर तू बुराई " है | समीर को कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है और अभी तक बहुत सी कवितायेँ लिख चुके हैं | समीर एक संगीतकार बनना चाहते हैं |