गुरुवार, 23 मई 2019

कविता : एक बात

" एक बात "

बैठा था जब मैं खिड़की के पास,
सोच रहा था बैठ एक बात |
जब आया वह खेल याद,
खेल रहा था मैं दिन - रात |
हार गया तो क्या हुआ,
लेकिन जीतूँगा मैं भी एक बार |
चोट लगी तो क्या हुआ,
मेहनत करना है एक साथ |
चला गया मैं पृथ्वी से पार, 
बैठा था जब मैं खिड़की के पास |

नाम : सुल्तान कुमार , कक्षा : 5th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता सुल्तान के द्वारा लिखी गई है जो की कक्षा 5 के विद्यार्थी है | सुल्तान मूल रूप से बिहार के नवादा जिले के निवासी हैं और वर्तमान समय में अपना घर नामक संस्था में रहकर शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं | सुल्तान को खेलना बहुत अच्छा लगता है |

शनिवार, 18 मई 2019

कविता : हँसी तो सभी को आती है

" हँसी तो सभी को आती है "

हँसी तो सभी को आती है,
लेकिन वह हँस नहीं पाता है |
दर्द तो सभी को होता है,
लेकिन वह सह नहीं पाता है |
जिंदगी जीना है सभी को,
लेकिन जी नहीं  पाता |
पढ़ना उसे पड़ता है जो रह नहीं पाता,
दर्द उसे होता है जो सह नहीं पाता |
हँसी तो सभी को आती है
लेकिन वह हंस नहीं पाता |

                                                                                                                नाम : सुल्तान कुमार , कक्षा : 5th , अपना घर

कवि परिचय : बड़े ख़ुशी के साथ इस कविता को लिखने वाले सुल्तान कुमार बिहार के नवादा जिले के निवासी हैं और वर्तमान में अपना घर संस्था में रहकर अपनी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं | सुल्तान को कवितायेँ लिखना , चित्र बनाना और अन्य गतिविधियां करने में बहुत मजा आता है | मुझे उम्मीद है की आप लोगों के समर्थन से मैं और भी कवितायेँ लिखूँगा |

शुक्रवार, 17 मई 2019

कविता : चिड़िया

" चिड़िया "

छोटी सी चिड़िया उड़ रही है,
आसमान में बादल के नीचे |
उड़ रही है वह छोटी सी चिड़िया,
फुदक फुदक कर उड़ रही है चिड़िया |
आकाश में उड़ रही है चिड़िया,
लोंगो से कुछ कह रही है चिड़िया |
मन ही मन में मचल रही है चिड़िया,
फिर भी गीत गति है चिड़िया |  

नाम : शिवा कुमार , कक्षा : 3rd , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता शिवा के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के निवासी हैं | शिवा की यह पहली कविता उम्मीद है जो कि आपको यह कविता पसंद आएगी | शिवा को कविता लिखना बहुत अच्छा लगता है और बड़े लोंगो से प्रेरणा लेकर और भी कविताएँ लिखता है |

कविता : आज मैंने ये जाना है

" आज मैंने ये जाना है "

आज मैंने ये जाना है,
ये तो सिर्फ एक बहाना है |
सबको पैसा ही बस खाना है,
मुझे बताओ कहाँ अब जाना है |
ये पैसा ही सिर्फ बहाना है,
बस सबको बड़ा ही बनना है |
मुझे तुमसे बस इतना ही कहना है,
ये जवाना ही बस बहाना है |
बस पैसा ही इनको खाना है | |

                                                                                              नाम : समीर कुमार , कक्षा : 9th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता द्वारा लिखी गई है जो की प्रयागराज के निवासी हैं और अपना घर संस्था में रहकर अपनी पढ़ाई पूरी कर रहे हैं | समीर को कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है और बहुत सी कवितायेँ लिखते भी हैं | इसके अलावा क्रिकेट खेलना भी बहुत पसन्द है |

बुधवार, 15 मई 2019

कविता : माँ

" माँ " 

माँ तू कितनी प्यारी है,
दुनियाँ में सबसे न्यारी है |
तेरे बिना सारा जीवन अधूरा है,
माँ तू कितनी प्यारी है |
रोते को हँसना सिखाती है,
गिरते को चलना बताती है |
नई नई बात बताती,
अपनी अंचल में सुलाती |
दुःख से लड़ना सिखाती,
उँगली पकड़ राह दिखती |
माँ तू कितनी प्यारी है,
दुनियाँ में सबसे न्यारी है |

नाम : सार्थक कुमार , कक्षा : 9th अपना घर

कवि परिचय : यह कविता सार्थक के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के निवासी हैं | सार्थक को कहीं भी घूमना और लोगों से बात करना बहुत अच्छा लगता है | सार्थक आर्मी में जाना चाहते हैं | खेलने के आलावा कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है |

कविता : मैं चाहकर भी न रोक सका

" मैं चाहकर भी न रोक सका "

मैं चाहकर भी न रोक सका,
उस मधुर से गीत को |
वह क्या सुर और ताल था,
जिसमें सुरीली आवाज़ थी |
मन मस्त मगन हो जाता है,
जो उस गाना को सुनता है |
उस संगीतकार का क्या तारीफ करूँ,
जिसने उसे रचाया है |
नींद मुझे आ जाती है,
उस संगीत की झंकार से |
मैं चाह भी न रोक सका,|
उस मधुर संगीत को |

नाम : कुलदीप कुमार , कक्षा : 8th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता कुलदीप के द्वारा लिखी गई है जो की छत्तीसगढ़ के निवासी हैं | कुलदीप को कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है और बहुत सी कवितायेँ लिखते भी हैं | कुलदीप एक नेवी ऑफिसर बनना चाहते हैं | कुलदीप को खेलना बहुत पसंद है |  

रविवार, 12 मई 2019

कविता : जनता की बारी

" जनता की बारी "

आई अब जनता की बारी,
सही नेता चुनने की तयारी |
वोट जनता का हथियार है,
संभलना नेता बहुत होशियार है |  
करेंगे चिकनी चुपड़ी बातें,
इनके चक्कर जनता है आतें |
पाँच सालों में कुछ किया नहीं,
जनता सही से जिया ही नहीं |
किसी का हल्का किसी का पलड़ा भारी,
आई अब जनता की बारी |
सही नेता चुनने की तैयारी | |

कवि : अखिलेश कुमार , कक्षा : 9th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता अखिलेश के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के नवादा जिले के निवासी हैं | अखिलेश कानपुर के आशा ट्रस्ट नामक संस्था में रहकर अपनी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं | अखिलेश को फुटबॉल खेलना बहुत पसंद है और कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है |

शनिवार, 11 मई 2019

कविता : आम का महीना आया

"आम का महीना आया "

आम का महीना आया,
 बच्चों के मुँह में पानी आया |
मुँह से लार टपकता टप टप कर,
आमों में रस भरा रहता है ठस ठस कर |
धूप से गिरता टप टप,
बच्चे खाए खूब चूसकर |
रंग रसीला आम लाया,
बच्चों के मन में खुशियाँ लाया |
आम का महीना आया,
 बच्चों के मुँह में पानी आया |

नाम : सार्थक कुमार , कक्षा : 9th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता सार्थक के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के नवादा जिले के निवासी हैं | सार्थक को मौसम और चीजों के बारे में कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है | सार्थक एक इंडियन आर्मी बनना चाहते हैं | सार्थक को क्रिकेट खेलना बहुत पसंद है |

शुक्रवार, 10 मई 2019

कविता : माँ

" माँ "

तेरा कसूर कुछ नहीं,
जो तेरा कर्म तूने किया,
मुझे पता है तूने ही मुझे जन्म दिया |

सहा है बहुत सी मुसीबतों को,
बिना किए अपनी परवाह |
तेरी ममता मेरी जान से प्यारी,
तू ही है दुनियाँ की सबसे न्यारी |

अब यह क्या तेरे चेहरे पर झुर्रियॉ,
आँखों में आँसू |
मुँह में आह की आवाज़,
वह ठोकरों से भरी राह |

फिर भी सह कर है मुस्कराती,
तू मेरी अनमोल रत्न |
मेरी जान से भी प्यारी,
तू ही तो है मेरी सर्वोपरी |
मेरी जान से प्यारी मेरी माँ |

नाम : राज कुमार,  कक्षा : 10th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता राज के द्वारा लिखी गई जो की  हमीरपुर के निवासी हैं और अपना घर नामक संस्था में रहकर अपनी पड़े कर रहे हैं | राज को कवितायेँ लिखने का बहित शौक है | राज एक होनहार छात्र हैं |
|

गुरुवार, 9 मई 2019

कविता : पीड़ा

" पीड़ा "

जब मैं बैठा था एक खाली रोड पर,
पीड़ा होने लगी कसके मेरे दिमाग पर |
मैं सोच रहा था अपने इतिहास पर,
जो नहीं दिखा कुछ खास |
मैंने सोचा अपने आने वाले कल पर,
मैं बदल सकता था अगले साल पर |
अब मैं जीना चाहता हूँ एक नई जिंदगी,
जिसमें मिले मुझे ढेर ख़ुशी |
मैं बदल दूँगा उस दुःख समय को ,
जिससे मेरे जिंदगी में बस ख़ुशी हो |


कवि : सुल्तान , कक्षा : 5th , अपना घर

कवि परिचय : यह कविता सुल्तान के द्वारा लिखी गई है जो की बिहार के नवादा जिले के निवासी हैं | सुल्तान को कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है | सुल्तान को खेल खेलना बहुत अच्छा लगता है | सुल्तान बहुत ही अच्छा बच्चा है |

मंगलवार, 7 मई 2019

कविता : मजदूरों का अवकाश था

" मजदूरों का अवकाश था "

वह दिन कुछ खाश था,
मजदूरों का अवकाश था |
1 मई का दिन था,
मजदूर दिवस का वह दिन था |
यह पल था प्रेम और खुशियों का,
यहाँ जन्मदिन था हम सबका |
कुछ लोगों ने सजाया था,
रात में जन्मदिन मनाया था |
कुछ मेहमान आए थे,
खाना बड़े मजे से खाए थे |
रात में नाच गाना था,
वह दिन सबसे मस्ताना था |


कवि : कुलदीप कुमार , कक्षा : 8th , अपना घ
कवि परिचय : यह कविता कुलदीप के द्वारा लिखी गई है जो की छत्तीसगढ़ के निवासी हैं | कुलदीप को कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है और वह लिखते भी हैं | कुलदीप पढ़लिखकर एक नेवई ऑफिसर बनना चाहते हैं |