मंगलवार, 5 मई 2009

कविता:- छोटी सी मख्खी

छोटी सी मख्खी
एक छोटी सी मख्खी
दिन भर रहती घर के अन्दर
घर के अन्दर जब भी आ जाती
घर के दरबाजे खुले पा जाती
एक छोटी सी मख्खी..
दिन भर रहती घर के अन्दर
घर के अन्दर तब - तब आती
घर के अन्दर जब गन्दगी रहती
खाने में मुंह लगा देती हैं
सबको को बिमार बना देती हैं
अपने आप को बचा कर भाग जाती
फ़िर न किसी से पकड़ में आती
वापस उस घर में शक्ल दिखाती नहीं
क्योंकि वह पहचान में आती नहीं
सब एक जैसी लगती हैं ।
एक छोटी सी मख्खी
दिन भर रहती घर के अन्दर ....
कविता:- अशोक कुमार , कक्षा ६ , अपना घर
पेंटिंग:- चंदन कुमार, कक्षा ३ अपना घर

4 टिप्‍पणियां:

MANVINDER BHIMBER ने कहा…

सुंदर पेंटिंग है......बधाई पोस्ट भी सही बात कह रही है

abhivyakti ने कहा…

आप की रचना प्रशंसा के योग्य है . लिखते रहिये
चिटठा जगत मैं आप का स्वागत है

गार्गी
www.abhivyakti.tk

अनिल कान्त : ने कहा…

आपने बहुत अच्छी कविता लिखी है ...पेंटिंग भी अच्छी है

beena ने कहा…

आपका दिल और दिमाग दोनों सुन्दर है इस्लिये आपने अच्छा लिखा और सुन्दर चित्र बनाया