शनिवार, 7 जनवरी 2012

कविता - हुए हम सफल

कविता - हुए हम सफल 
 दर- दर की ठोकरे खाकर ,
 हम हुए घर से बेघर .....
 न मिली हमें  कोई मंजिल,
 हमेशा होते गए विफल .....
 जो सोचा वह हुआ नहीं ,
 जो न सोचा वही हुआ .....
 जिसे पाना चाहा वह न मिला,
 जिसे न चाहा वही मिला .....
 जिस रास्ते से गया पाये कांटे ही कांटे,
 जितने भी दुःख मिले किसी ने न बांटे ......
 दुःख के गमों को सहकर मिली एक पहल ,
 जिस पहल से हुए हम सफल ........
लेखक - आशीष कुमार 
 कक्षा - 9 अपना घर , कानपुर

3 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

Bacchon ki kavitaein sunkar bahut accha lagta hai....... humein bahut garv hai ki aise pyare bacchon ke saath kuch samay bitane ko mila.....
Ruchi didi

M.R.Iyengar ने कहा…

बहुत बढिया.
कृपया जारी रखें.

और पोस्ट करते रहें.

अयंगर.9425279174,
कोरबा, छत्तीसगढ़.

M.R.Iyengar ने कहा…

http://www.laxmirangam.blogspot.com भी देखें.