शनिवार, 12 नवंबर 2011

आओ करे विचार

कविता - आओ करे विचार 
 दो -दो चार ,
 आओ करे विचार.....
 चार थे साथी ,
 उनके पास नहीं था हाथी....
 जिसके कारण से थे वे उदास,
 चारो मिलकर रहते साथ .....
दो -दो चार ,
 आओ करे विचार......
 लेखक - ज्ञान 
 कक्षा - ८ अपना घर , कानपुर

1 टिप्पणी:

"रुनझुन" ने कहा…

अच्छी कविता!