बुधवार, 6 जुलाई 2011

कविता : हरियाली आई

हरियाली आई 
हरियाली आई हरियाली आई ,
आसमान में रंग है लाई....
खेतों में हरियाली भर आई,
सभी जगह भर आई है घास.....
लगता है खूब हुई है बरसात ,
इसलिए खेतों में आ गई मेढकों की बारात.....
हरियाली आई हरियाली आई ,
आसमान में रंग है आई .....

लेखक : चन्दन कुमार 
कक्षा : 6
अपना घर  
 

4 टिप्‍पणियां:

चैतन्य शर्मा ने कहा…

Sunder kavita

रविकर ने कहा…

शुक्रवार को आपकी रचना "चर्चा-मंच" पर है ||
आइये ----
http://charchamanch.blogspot.com/

रविकर ने कहा…

http://charchamanch.blogspot.com/

आज आप चर्चा मंच पर हैं ||

vidhya ने कहा…

बहुत सुन्दर