मंगलवार, 7 मई 2019

कविता : मजदूरों का अवकाश था

" मजदूरों का अवकाश था "

वह दिन कुछ खाश था,
मजदूरों का अवकाश था |
1 मई का दिन था,
मजदूर दिवस का वह दिन था |
यह पल था प्रेम और खुशियों का,
यहाँ जन्मदिन था हम सबका |
कुछ लोगों ने सजाया था,
रात में जन्मदिन मनाया था |
कुछ मेहमान आए थे,
खाना बड़े मजे से खाए थे |
रात में नाच गाना था,
वह दिन सबसे मस्ताना था |


कवि : कुलदीप कुमार , कक्षा : 8th , अपना घ
कवि परिचय : यह कविता कुलदीप के द्वारा लिखी गई है जो की छत्तीसगढ़ के निवासी हैं | कुलदीप को कवितायेँ लिखने का बहुत शौक है और वह लिखते भी हैं | कुलदीप पढ़लिखकर एक नेवई ऑफिसर बनना चाहते हैं |

1 टिप्पणी:

पूरन मल मीना ने कहा…

बहुत ही अच्छी प्रस्तुति TOP 5 Super Bass Portable Bluetooth Speaker with Mic