मंगलवार, 22 फ़रवरी 2011

कविता : दादा जी ने समझाया

दादा जी ने समझाया  

दादा जी ने यह समझाया ,
बच्चों धमा-चौकड़ी मत करो .....
पढ़ो लिखो तुम आराम करो,
जग में रोशन नाम करो तुम .....
अच्छे नागरिक बन जाओगे ,
समाज को अच्छी राह दिखलाओगे......
बच्चे बोले धमा-चौकड़ी नहीं करेगें ,
अपने घर में जी जान से पढ़ेगें .....


लेखक :मुकेश कुमार 
कक्षा :9
अपना घर 

5 टिप्‍पणियां:

चैतन्य शर्मा ने कहा…

अच्छी बात बताती कविता .....

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत अच्छी कविता...

निर्मला कपिला ने कहा…

सुन्दर सार्थक सन्देश देती बाल कविता। आभार।

anu ने कहा…

सुंदर कविता ....

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सार्थक सन्देश देती सुन्दर रचना..

http://bachhonkakona.blogspot.com/