रविवार, 11 सितंबर 2011

कविता :आ गए काले अंग्रेज

आ गए काले अंग्रेज 

अच्छे खासे देश में 
आ गए काले अंग्रेज
खाते हैं मुर्गा और आचार 
करते हैं देश में भ्रष्टाचार 
कहलाते हैं देश के नेता 
इनसे देश का हर आदमी रोता
अच्छे खासे देश में
आ गए काले अंग्रेज

लेखक : सागर कुमार 
कक्षा : ८
अपना घर  


4 टिप्‍पणियां:

YASHPAL SINGH ADVOCATE RAMPUR MANIHARAN (SAHARANPUR) U.P. ने कहा…

Good Kavita

अरूण साथी ने कहा…

bhagao bhagao

"रुनझुन" ने कहा…

क्या बात कही है...बहुत खूब!!!

रविकर ने कहा…

हिन्दी में था निमंत्रण, बिगत बार भी मित्र ||
चर्चा मंच पे आइये, कहाँ गए अन्यत्र ??

http://charchamanch.blogspot.com/