शनिवार, 27 अगस्त 2011

कविता : पूरा नहीं कर पाते

 पूरा नहीं कर पाते 

आज की इस भीड़ में ,
हो न जाना तुम मत शामिल......
क्योंकि हर जगह हो रही है,
सरकार की अब दादागिरी......
पंद्रह अगस्त के दिन तुम देखो,
झंडा पहले फहराते हैं......
अन्ना जी की मांगों को,
पूरा नहीं कर पाते हैं.....

लेखक : ज्ञान कुमार 
कक्षा : 8
अपना घर 

2 टिप्‍पणियां:

"रुनझुन" ने कहा…

क्या बात है... बिलकुल सच्ची बात कही..

Nagasrinivasa Rao ने कहा…

Good one