शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

कविता : शिव भक्त

" शिव भक्त "

 बम बम भोले की गूँज रही है 

चारो ओर शिव के भक्त डोल रहे हैं | 

चढ़ा है शिव का नशा इन पर,

बोल रहे रहे है बम चारो धाम घूमकर | 

सावन के महीने में भांग बाँट रहे,

भांग पीकर शिव का गीत गा रहे | 

 होश हवाब खो बैठे हैं सारे भक्त,

दौड़ रहा है उनके शरीर में शिव का रक्त | 

 केवल बम -बम भोले बोल  रहे हैं,

सारे भक्त मस्ती डोल रहे हैं | 

 

कवि : रविकिशन , कक्षा : 11 , अपना घर

 

 

 

2 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

सुन्दर रचना।

hindiguru ने कहा…

सुन्दर भक्ति गीत