शनिवार, 23 सितंबर 2017

कविता : गर्मी

" गर्मी "  

उफ़ ये गर्मी है बेनरमी,
                                                                कितनो को है इसने सताया | 
                                                               बड़े - बड़ों को मार भगाया, 
                                                               बिना पानी के राहत नहीं | 
                                                              ठण्ड के लिए कहीं छाँव नहीं |  
                                                             रूहअफज़ा पीओ बर्फी खाओ, 
                                                             गर्मी को करारा जवाब दिलाओ | 
                                                               क्या करें ये दिन ही ऐसा है, 
                                                                एक दिन पूरे साल के जैसा है |  

कवि : प्रांजुल कुमार , कक्षा : 8th , अपनाघर कानपुर 


                                                          
कवि परिचय : यह छत्तीसगढ़ के रहने वाले प्रांजुल है | ये अपनाघर में रहकर अपनी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं | इनकी कविताएँ बहुत अच्छी होती है | पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं | गणित इनका प्रिय विषय है | 

6 टिप्‍पणियां:

Meena Sharma ने कहा…

अच्छा लिखा है प्रांजुल आपने ।

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (25-09-2017) को
"माता के नवरात्र" (चर्चा अंक 2738)
पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Sathi Education ने कहा…

अद्भुत

Aman Bansal ने कहा…

अद्भुत प्रांजुल......

Aman Bansal ने कहा…

अद्भुत प्रांजुल......

neera bhargava ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना है बेटा